TITAN success story in hindi | TITAN की सफलता की कहानी

आज के इस टेक्नोलॉजी भरे दौर में किसको टाइटन कंपनी के ब्रांड के बारे में नहीं पता होगा अधिकांश लोग इस ब्रांड के बारे में जानते हैं और इस ब्रांड का प्रोडक्ट्स इस्तेमाल करते हैं जो कि एक भारतीय कंपनी है लेकिन दोस्तों में जो आपको बताने वाला हूं वह शायद ही आपको मालूम होगा आज मैं आपको टाइटन से जुड़े ऐसे रोचक तथ्य के बारे में बताऊंगा फिर शायद आपने इससे पहले कभी ना सुनी हो.

TITAN success story | Fastrack | Tanishq | Eye plus | Hindi |GBSF - YouTube

1. टाइटन वॉचेस लिमिटेड की शुरुआत 1984 में हुए. टाइटन टाटा ग्रुप और तमिलनाडु इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन के बीच का एक ज्वाइंट वेंचर है. उसके बाद 1986 से कंपनी ने घड़ी का प्रोडक्शन शुरू किया और पहले ही साल 1987 में टाइटन की घड़ी ने भारतीय मार्केट में तहलका मचा दिया क्योंकि टाइटेनिक भारतीय ब्रांड होने की वजह से और घड़ी की मजबूती के कारण लोगों द्वारा खूब पसंद किया गया.

2. 1993 में कंपनी ने अपना नाम टाइटन वॉचेस लिमिटेड से बदलकर टाइटन इंडस्ट्रीज लिमिटेड किया क्योंकि कंपनी घड़ी ही नहीं घड़ी के साथ साथ और भी कई सारे प्रोडक्ट बनाना चाहती थी. आगे फिर 1994 में टाइटेन ने अमेरिकन ब्रांड के साथ मिलकर तनिश नाम का एक ज्वेलरी ब्रांड लांच किया और उसके बाद टाइटन सोनाटा नाम से एक और घड़ी ब्रांड को लांच किया जोकि टाइटन ही के बराबरी का था. जिस की घड़ियां आज भी लोगों द्वारा बहुत पसंद की जाती है.

3. 1998 में युवा पीढ़ी को ध्यान में रखते हुए टाइटन फास्ट्रेक नाम का एक और घड़ी ब्रांड लांच किया जैकी 2005 में भारतीय युवाओं में एक बहुत बड़ा ब्रांड बन गया इस ब्रांड ने युवाओं के बीच घड़ी और चश्मा जैसे श्रेणियों में खुद के लिए एक अलग जगह बनाई है.

4. 2009 से फास्ट्रेक ने बेल्ट बैच वॉलेट जैसे एक्सरसाइज बनाने की भी शुरुआत की उसके बाद टाइटन टाइटन आई प्लस नाम से एक और लग्जरी ब्रांड लॉन्च किया जो कि चश्मा के फ्रेम लैंसेज आंखों के लिए कॉन्टैक्ट लैंसेज और सन ग्लास बनाने और बेचने का काम करता है.

5. टाइटन आई प्लस पूरी दुनिया के लिए एक बेंचमार्क साबित हुआ क्योंकि उसी की वजह से आंखों के लिए बनाए जाने वाले प्रोडक्ट में हमें स्टैंडर्डाइज देखने को मिला.

6. टाइटन ने भारत में स्मार्ट वॉच के बढ़ते इस्तेमाल को देखकर juxt नाम की भारत की पहली वॉच बनाई जो कि किसी भी भारतीय कंपनी द्वारा पहले बनाए जाने वाली स्मार्ट वॉच थे. यह वॉच औरस न्यूटन होने की वजह से एंड्रॉयड और एप्पल डिवाइस दोनों के साथ भी जुड़ जाती थी.

7. आगे जाकर फिर 2013 में टाइटन ने खुद का पर्सनल परफ्यूम ब्रांड भी लॉन्च किया जिसका नाम है स्किन इसे महिला और पुरुष दोनों ही स्माल कर सकते हैं टाइटन किस परफ्यूम की मैन्युफैक्चर और पैकेजिंग दोनों ही फ्रांस में होती है.

8. दोस्तों साल 2018 में टाइटन का कुल रेवेन्यू 15600 करोड था आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि टाइटन का वॉचेस से रेवेन्यू सिर्फ 10% ही है जबकि टाइटन का बड़ा रेवेन्यू हिस्सा ज्वेलरी से आता है जो कि 20% है.

9. दोस्तों 2007 में टाइटैन ने आईवीआर के बिजनेस में पैर जमाना शुरू किया आई वियर का पहला शोरूम बेंगलुरु में शुरू हुआ था. आज के तारीख में आईवियर के करीबन 470 शोरूम है जिनमें सनग्लासेस लैंसेज जैसी अन्य चीजें अवेलेबल है 2019 में टाइटन के रेवेन्यू का 8% हिस्सा आईवियर से था.

10.  लॉर्जकैप शेयरों में शामिल टाइटन कंपनी में आज शानदार तेजी देखने को मिल रही है. आज के कारोबार में शेयर 6 फीसदी के करीब मजबूत होकर 1268 रुपये के भाव पर पहुंच गया.

तो दोस्तों आपने जाना टाइटन से जुड़े कुछ कमाल के फैक्ट इसे जानने के बाद आपको नॉलेज जरूर मिला होगा यदि आप ऐसे ही नॉलेज रोज रहना चाहते हो तो आप हमारे इस वेबसाइट पर चेक आउट कर सकते हैं जहां अलग-अलग कैटेगरी की नॉलेज आपको मिलती रहेगी.

Leave a Comment